शेयर मार्केट में बुक वैल्यू क्या होती हे ?कंपनी की बुक वैल्यू कैसे निकले ?

नमस्ते दोस्तों। आज हम बुक वैल्यू के बारे में जानने वाले हे। book value kya hoti he ?(book value meaning in hindi) इसका इस्तेमाल क्यों और कहा किया जाता हे। और किसी कंपनी का बुक वैल्यू निकलना हो तो वो कैसे निकलते हे। इन सब के बारे में हम आज समझने वाले हे।

बुक वैल्यू क्या होती हे -book value kya hoti he

बुक वैल्यू क्या होती हे -book value kya hoti he
book value meaning in hindi

आज कोई कंपनी बंद होना चाहे। और उसका कारोबार बंद हो जाये। तो कंपनी उसका सब कर्जा ,लेनदेन चुकाके उसके पास जो भी assets बचती हे। या कंपनी के पास सब कर्जा चुकता करके जो भी पैसा बचता हे। उसे ही हम कंपनी की असली कीमत कहते हे। और उसी असेट्स को हम बुक वैल्यू कहते हे।

किसी भी कंपनी की बुक वैल्यू कंपनी के balance sheet में दर्ज की जाती हे। क्युकी निवेशक उस बैलेंस शीट में बुक वैल्यू को देख सके। और उसी का fundamental analysis देखके निवेशक कंपनी में  निवेश कर सके। क्युकी बुक वैल्यू देखकर ही कंपनी की असली वैल्यू यानि कंपनी की नेट वैल्यू पता चलती हे।

पर शेयर बुक वैल्यू क्या होती हे ?

अगर कोई कंपनी आज उसका व्यापार बंद करना चाहे। और अगर कंपनी के शेयर्स होल्डर को उनका पैसा देना रहे। तो कंपनी अपना शेयर पर बुक वैल्यू निकलती हे। कंपनी की सारी liabilities को हटा दिया जाये। और सब बैंक कर्जे दे दिए जाये।

और फिर कंपनी के पास सिर्फ उनका नेट प्रॉफिट और रिज़र्व कॅश बचती हे। और उनकी कुल एसेट्स बचती हे। तो इन सब का कुल मिलके जो पैसे निकलते हे। उन पैसे को हम कंपनी के कुल शेयर की संख्यासे भाग लेंगे। उससे जो रकम निकलेगी उसेही पर शेयर बुक वैल्यू कहा जाता हे।

example

xyz कंपनी के पास १० लाख शेयर की संख्या हे।और कंपनी की कुल एसेट्स हे २० लाख रुपये। और उसमेसे कंपनी की liabilities हे ५ लाख रुपये। तो हम कंपनी की बुक वैल्यू निकलने के लिए कंपनी में से liabilities निकल देंगे।तो liabilities हे ५ लाख रुपये।तो बचे २० लाख रुपये। २० – ५ = १५ लाख रुपये। तो कंपनी की १५ लाख रुपये बुक वैल्यू हो गयी।

और उसी १५ लाख को हम कंपनी की कुल शेयर संख्यासे गुण लेंगे। १५ लाख * १० लाख = १५० रुपये। मतलब कंपनी की शेयर पर बुक वैल्यू रहेगी १५० रुपये।

यह भी पढ़िए –

शेयर मार्केट में सफल होने के क्या नियम हे ?

शेयर मार्केट में कम से कम कितना पैसा लगा सकते हे ?

formula

book value = total assets – total liabilities

par share book value = total book value / total number of shares

 स्टॉक प्राइज

कंपनी की स्टॉक प्राइज अगर कंपनी की बुक वैल्यू से ऊपर ट्रैड करती हे तो। कंपनी अच्छे ग्रोथ में हे ऐसा देखा जाता हे। और अगर कंपनी की स्टॉक प्राइज बुक वैल्यू से निचे ट्रेड कर रही हो। तो कंपनी नुकसान में चल रही हे ऐसा देखा जाता हे। मतलब देखा जाये तो जो कंपनी प्रॉफिट में चल रही होती हे। उसकी स्टॉक प्राइज हमेशा उसकी बुक वैल्यू से ज्यादा होती हे।

और जिस कंपनी नुकसन में चल रही होती हे। उस कंपनी की स्टॉक प्राइज बुक वैल्यू से निचे हो ती हे। तो इससे ये पता चलता हे की अगर कंपनी में निवेश करना हे तो। उस कंपनी की स्टॉक प्राइज कंपनी के बुक वैल्यू से ऊपर होनि चाहिए। तब ही उसमे निवेश करे। और अगर बुक वैल्यू से निचे रहे तो निवेश नहीं करना चाहिए।

example

लेकिन अगर किसी कंपनी का बुक वैल्यू २०० रुपये हे। और उसका स्टॉक प्राइज १००० रुपये हे। तो क्या उस कंपनी में निवेश करना सही रहेगा। क्युकी कंपनी स्टॉक प्राइज फेस वैल्यू से १० गुना हे। तो इसका मतलब ये भी होता हे की कंपनी over bought हे। लेकिन अगर कंपनी हर साल प्रॉफिट कमा रही हो। और उसका बुक वैल्यू भी बढ़ता हो। तो उस कंपनी में हम निवेश (इन्वेस्ट) कर सकते हे।

कंपनी के बुक वैल्यू और स्टॉक प्राइज में जो अन्तर होता हे। उसे PB RETIO कहा जाता हे। इस PB RETIO का कंपनी के फंडामेंटल मे देखा जाता हे।

सिर्फ बुक वैल्यू से या PB RETIO से हम कंपनी में निवेश नहीं कर सकते। उसके लिए कंपनी फंडामेंटल भी स्ट्रॉंग होना चाहिए।

बुक वैल्यू कहा देखते हे

अगर किसी कंपनी की बुक वैल्यू देखने हो। तो आप उसके बैलेंस शूट में देख सकते हे। या आप सीधे गूगल पर कंपनी का नाम ,और आगे बुक वैल्यू लिखने पर आपको कंपनी की बुक वैल्यू पता चल जाएगी। या आप कंपनी की बैलेंस शीट  nseindia वेबसाइट पर भी देख सकते हे। इसमें आपको कंपनी की पूरी जानकारी मिल जाती हे। जो कंपनी में निवेश करे या न करे इन बातो को समझने में मदत करती हे।

निष्कर्ष

आज हमने सीखा की book value kya hoti he (book value meaning in hindi)। इसका उपयोग हम कंपनी में निवेष करने की लिए कर सकते हे। और अगर किसी कंपनी की बुक वैल्यू निकालनी हो तो कैसे निकले। इसके बारे में में हमने आज देखा। और पर शेयर बुक वैल्यू ,PB RETIO क्या होता हे। इसके बारे में भी हमने आज देखा।

तो यकीन हे दोस्तों आजकी ये हमारी book value kya hoti he(book value meaning in hindi) पोस्ट आपको अच्छी लगी हो। और ये पोस्ट आपको काफी मदतगार साबित हुयी होगी। और ये पोस्ट आपको पसंद आयी हो तो कृपया आप इसे शेयर जरूर कीजियेगा।

अगर आपको शेयर मार्किट के बारे में। या अन्य किसी विषय पर सवाल हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज सकते हे। और आप चाहते हो की इस पोस्ट में कुछ बदलाव होना चाहिए। तो भी आप हमें कमेंट कर सकते हे। धन्यवाद!

f&q

३. किसी कंपनी का बुक वैल्यू क्या होता है?

5 thoughts on “शेयर मार्केट में बुक वैल्यू क्या होती हे ?कंपनी की बुक वैल्यू कैसे निकले ?”

Leave a Comment